• Fri. Jun 14th, 2024

आपका समाचार

आपसे जुड़ी ख़बरें

मनीष सिसोदिया

दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री, मनीष सिसोदिया। आबकारी घोटाले में जेल के अंदर हैं और अपने साथी सत्येन्द्र जैन की तरह ही बार बार अपील कर रहे हैं कोर्ट में ताकि उन्हें जमानत मिल सके। लेकिन आज एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई की वजह से उनकी मुश्किले बढ़ गई हैं। ईडी और सीबीआई द्वारा जांच की गई नई आबकारी नीति घोटाले को लेकर हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने अगली सुनवाई के लिए 4 सितंबर की तारीख निश्चित की है।

कोर्ट ने ईडी को स्पष्ट रुप से संदेश दिया है कि पैसों की लेन-देन में एजेंसी अपनी लेनदारी स्पष्ट करें कि मनीष सिसोदिया उसमें किस तरह से शामिल थे। जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस एसवीएन भट्टी की बेंच ने मनीष सिसोदिया की पत्नी की मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद कहा कि वह काफी ठीक हैं और इसलिए पीठ सिसोदिया की अंतरिम जमानत याचिका की सुनवाई उनकी नियमित जमानत याचिकाओं की सुनवाई के साथ ही करेगी।

एजेंसी स्पष्ट करें मनीष सिसोदिया की लेने देने की स्थिति

कोर्ट ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू से मामले में पैसे के लेन-देन से जुड़े पहलुओं पर स्पष्ट तस्वीर देने को भी कहा। साथ ही कोर्ट का कहना है कि एजेंसी ने जो हलफनामना पेश किया है उसमें लेन देन की स्थिति स्पष्ट नहीं की गई है। इसलिए कोर्ट ने हलफनामा दाखिल करने के लिए एजेंसी को और भी समय दिया है।

आपको बता दें कि मनीष सिसोदिया ने अपनी पत्नि की बिमार होने के आधार पर कोर्ट में जमानत के लिए अर्जी लगाई थी। इससे पहले 14 जुलाई को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने ईडी और सीबीआई से सिसोदिया की अंतरिम जमानत पर जवाब मांगा था। 26 फरवरी 2023 से मनीष सिसोदिया जेल के अंदर बंद हैं जब उन्हें सीबीआई वालों ने गिरफ्तार किया था।

इससे पहले हाई कोर्ट ने 30 मई को जमानत देने से इंकार कर दिया था वह एक हाई प्रोफाइल व्यक्ति हैं और गवाहों को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। इसके बाद हाईकोर्ट ने तीन जुलाई को ईडी मामले में भी सिसोदिया को बेल देने से इनकार करते हुए कहा था कि उनके ऊपर लगे आरोप बेहद गंभीर हैं।

By Rohit

सीवान से आते हैं इसलिए राजनीति ब्लड के साथ ही लेकर आए हैं। कुछ काम नहीं है इसलिए लिखने का काम शुरु कर दिया। बाकी क्वालिटी के नाम पर बकैती के अलावा कुछ नहीं सिर्फ काम करवा लो चाहे जितनी मर्जी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *