• Tue. Jun 25th, 2024

आपका समाचार

आपसे जुड़ी ख़बरें

Manipur In Parliament : मणिपुर में हुए घमासान के बाद संसद 28 जुलाई तक के लिए स्थगित

राज्यसभा

 

नई दिल्ली, 27 जुलाई :  संसद में बवाल, यह खबर हम जब से सदन की शुरुआत हुई है, तब से सुन रहे हैं लेकिन आज एक बार फिर से मणिपुर को लेकर बवाल शुरु हुआ और बवाल खत्म हुआ सदन के स्थगन के साथ। सदन पूरी तरह से कल तक स्थगित कर दी गई है और मणिपुर मुद्दे पर विपक्ष की नारेबाजी के बीच लोकसभा की कार्यवाही कल 28 जुलाई सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है।

पहले समझने की कोशिश करते हैं कि आखिर अब तक सदन में क्या-क्या हुआ है। दरअसल जबसे सदन शुरु हुआ है तब से विपक्ष एकजुट होकर मणिपुर में ढाई महीने से ज्यादा समय से जारी हिंसा को लेकर संसद में लगातार हंगामा कर रहा है। विपक्ष की एक ही मांग है कि इस मुद्दे पर चर्चा की जाए और जब सरकार चर्चा करने के लिए तैयार हुई तो विपक्ष की एक और डिमांड आई कि इसपर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपना व्यक्तव्य रखें।

इस बीच हंगामा इतना ज्यादा हुआ कि आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह को पूरे सेशन के लिए बर्खास्त कर दिया गया और फिर बुधवार (26 जुलाई) को विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव कांग्रेस के सांसद गौरव गोगोई ने पेश किया है, जिसे लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने स्वीकार कर लिया है।

लोकसभा अध्यक्ष सभी दलों से बातचीत के बाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए समय तय करेंगे। हालांकि कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने बताया कि ये कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव नहीं है, बल्कि इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इनक्लूसिव अलायंस (I.N.D.I.A) के घटक दलों की तरफ से लाया गया है। नियम के अनुसार प्रस्ताव पर 10 दिनों के भीतर चर्चा होती है, लेकिन विपक्षी गठबंधन इंडिया के घटक दलों ने गुरुवार को ही प्रस्ताव पर चर्चा की मांग की है।

हालांकि बुधवार को भी इस मुद्दे पर चर्चा नहीं हो पाई और सदन गुरुवार तक स्थगित कर दी गई और आज जब एक बार फिर से सदन शुरु हुई तो दोनों सदनों में कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी सांसद मणिपुर के मुद्दे पर विरोध करने लगे। विपक्षी सांसदों ने आज मणिपुर के मुद्दे पर विरोध जताने के लिए सदन में काले कपड़े पहनकर आएं। कांग्रेस ने अपने राज्यसभा सदस्यों को 27 जुलाई को संसद में उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी किया था। आम आदमी पार्टी ने भी राज्यसभा सांसदों को 27 और 28 जुलाई को सदन में मौजूद रहने के लिए व्हिप जारी किया था।

एक बहस सदन के अंदर तो दूसरा सदन के बाहर चल रहा था सदन के अंदर पक्ष हर मुद्दे पर बहस करने के लिए तैयार था तो दूसरी ओर बाहर बैठे संजय सिंह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बयान की जिद पर टीके हुए हैं। संजय सिंह का कहना था कि आज टीम ‘इंडिया’ के विरोध प्रदर्शन का चौथा दिन है. हम मांग कर रहे हैं कि पीएम मोदी को संसद में आना चाहिए और मणिपुर मुद्दे पर बोलना चाहिए. मणिपुर जल रहा है और लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं, लेकिन पीएम मोदी ‘इंडिया’ (विपक्षी गठबंधन) की तुलना आतंकवादी समूहों से कर रहे हैं और कह रहे हैं कि वह 2024 में सत्ता में आएंगे. उन्हें कम से कम कुछ संवेदनशीलता दिखानी चाहिए।

आपको बता दें कि मणिपुर पर राज्यसभा में हंगामे के दौरान बुधवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी भड़क गईं और उन्होंने विपक्ष पर जोरदार हमला बोला. उन्होंने कहा कि मणिपुर पर चर्चा की मांग करने वाले पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ और राजस्थान पर चर्चा क्यों नहीं चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *