• Sat. Jun 15th, 2024

आपका समाचार

आपसे जुड़ी ख़बरें

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री को तीन साल की सजा

इमरान खान

पाकिस्तान में इस वक्त खूब गदर मच रहा है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान ख़ान को कोर्ट के फ़ैसले के बाद लाहौर स्थित उनके आवास ज़मान पार्क से गिरफ़्तार कर लिया गया है। बताया जा रहा है कि इस्लामाबाद के जिला और सत्र न्यायालय ने इमरान ख़ान को तोशाखाना मामले में दोषी पाते हुए उन्हें तीन साल जेल की सज़ा सुनाई है, साथ ही उन पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

इमरान ख़ान पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं। कोर्ट ने पीएम पद पर रहते हुए उन्हें मिले सरकारी तोहफ़े बेचने और उससे होने वाली आय का ब्योरा न देने का आरोप लगाया है. इमरान ने उन पर लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि वो इसके ख़िलाफ़ अपील करेंगे।

जज ने अपने फ़ैसले में इमरान ख़ान की तुरंत गिरफ्तारी के आदेश दिए, जिसके बाद उन्हें लाहौर में उनके घर से गिरफ्तार कर लिया गया है। इमरान ख़ान साल 2018 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री चुने गए थे, लेकिन बीते साल एक अविश्वास प्रस्ताव में हार जाने के बाद उन्हें पद से हटना पड़ा।

पाकिस्तान में हुई गिरफ्तारी का भारत में भी बड़ा बवाल शुरू हुआ है और बवाल कोई और नहीं बल्कि कांग्रेस नेता के एक ट्वीट के माध्यम से काम हुई। कार्ति पी चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, “प्रमुख विपक्षी नेता को चुनाव लड़ने से रोकने के लिए पाकिस्तान भारत मॉडल को फॉलो कर रहा है।” कांग्रेस सांसद की प्रतिक्रिया इमरान की गिरफ्तार के कुछ मिनट बाद ही आई। इमरान को लाहौर में उनके जमान पार्क घर से गिरफ्तार किया गया।

पहले एक नजर ट्वीट पर

 

तोशाखाना मामले में इमरान खान को 3 साल जेल की सजा सुनाई गई है और कोर्ट ने उन पर पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना नहीं देने पर उन्हें छह महीने और जेल में सजा काटनी पड़ेगी। सजा सुनाते हुए कोर्ट ने साथ ही कहा कि इमरान खान ने जानबूझकर फर्जी जानकारी दी।

तोशाखाना” वह जगह है जहां विदेशी गणमान्य व्यक्तियों की तरफ से सरकारी अधिकारियों को दिए गए उपहार संग्रहीत किए जाते हैं. यह विभाग पाकिस्तान के कैबिनेट डिवीजन की प्रशासनिक देखरेख में संचालित होता है।

अगस्त 2018 से अप्रैल 2022 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के रूप में कार्यरत इमरान खान पर अपने कार्यकाल के दौरान तोशाखाना से अपने पास रखे गए उपहारों की जानकारी जानबूझकर छिपाने का आरोप लगाया गया था. ये उपहार, जिनमें एक ग्रेफ कलाई घड़ी, एक अंगूठी और एक रोलेक्स घड़ी शामिल थी।

 

हमारे खबरों के तुरंत अपडेट के लिए ट्विटर पर फॉलो करें – https://twitter.com/Aapka_Samachaar

आप इस विषय पर क्या सोचते हैं। और अपना सुझाव भी हमे कमेंट में बताएं।

By Rohit

सीवान से आते हैं इसलिए राजनीति ब्लड के साथ ही लेकर आए हैं। कुछ काम नहीं है इसलिए लिखने का काम शुरु कर दिया। बाकी क्वालिटी के नाम पर बकैती के अलावा कुछ नहीं सिर्फ काम करवा लो चाहे जितनी मर्जी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *