• Thu. Jun 13th, 2024

आपका समाचार

आपसे जुड़ी ख़बरें

अटल बिहारी वाजपेयी

भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेई जी पुण्यतिथि पर सत सत नमन वैसे तो अटल जी जीवन गाथा सभी ने सुनी है लेकिन लड़कपन से लेकर अंतिम समय तक की सारी यात्रा संछेप में बताने की कोशिश हमारे द्वारा।

बचपन और शिक्षा: अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 को ग्वालियर, मध्य प्रदेश में हुआ था। उनके पिता का नाम कृष्ण बिहारी वाजपेयी था और माता का नाम श्रीमती चन्द्रकुंवरी था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा ग्वालियर में प्राप्त की और फिर उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी स्नातक की डिग्री प्राप्त की।

राजनीतिक प्रारंभ: अटल वाजपेयी ने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1942 में की जब वह आर्य समाज के सदस्य बने। वह बचपन से ही राजनीति में रुचि रखते थे और विभाजन प्रांत के अध्यक्ष भी बने।

जनसंघ और जनसंघ प्रमुख: अटल वाजपेयी ने जनसंघ में भी अपना योगदान दिया और उन्होंने बाल संघ के प्रमुख भी बनने का सौभाग्य प्राप्त किया। उनके यहाँ शारीरिक संघटना कौशल और वाणिज्यिक चतुराई ने उन्हें अन्य छात्रों से अलग बनाया।

विधायक और मुख्यमंत्री: वाजपेयी जी ने 1957 में उत्तर प्रदेश विधानसभा के सदस्य बनने का अवसर पाया। उन्होंने विधानसभा में पांच बार चुनाव जीतकर सदस्य बने। 1962 में उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री के रूप में पहली बार स्थान ग्रहण किया।

लोक सभा सदस्य और प्रधानमंत्री: अटल वाजपेयी ने लोक सभा में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और 1996 में प्रधानमंत्री के रूप में स्थान ग्रहण किया। वह प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने विकास और सुशासन के कार्यों से चर्चित हुए।

अंतिम समय: अटल वाजपेयी का निधन 16 अगस्त, 2018 को नई दिल्ली में हुआ। वे एक महान राजनेता, प्रतिष्ठित वक्ता और देशभक्ति के प्रतीक माने जाते हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी की अपने देश और जनता के प्रति गहरी सेवा का जीवन परिचय हम सभी के लिए प्रेरणास्त्रोत है।

आप अटल जी के जीवन और उनके व्यतित्व पर अपने विचार हमे कमेंट में बताएं

हमे ट्विटर पर फॉलो करे हमारे पोस्ट के तुरंत अपडेट के लिए:- https://twitter.com/Aapka_Samachaar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *